Welcome Guest | Login | Home | Contact Us
भृगु संहिता फलित प्रकाश

भृगु संहिता फलित प्रकाश

by  

Not Available




We have 3 million other books

Find Another Book

Enquire about this book


Book Information

Publisher:Deep Publication

is written by भृगु ऋषि.

Related Books

Practical Vedic Astrology A Complete Self Learning Treatise 5th Revised & Enlarged Edition,8170820014,9788170820017

Practical Vedic Astrology ...

G.S. Agarwal, J ...

Our Price: $ 15.74

Tantra The Key to Sexual Power & Sexual Pleasure 16th Jaico Impression,8172240732,9788172240738

Tantra The Key to Sexual ...

Ashley Thirleby

Our Price: $ 5.80

Miracles of Numerology 20th Jaico Impression,8172241003,9788172241001

Miracles of Numerology 20 ...

M. Katakkar

Our Price: $ 8.85

Numerology for All 9th Printing,8122201571,9788122201574

Numerology for All 9th Pr ...

Ashutosh Ojha

Our Price: $ 5.87

Astrology for Beginners Being the First Real Effort to Teach Astrology a Simple Manner Free from Technicalities 13th Edition, Reprint,8185674221,9788185674223

Astrology for Beginners B ...

Bangalore Venka ...

Our Price: $ 5.76

Varshaphal Or The Hindu Progressed Horoscope 12th Reprint,8185273952,9788185273952

Varshaphal Or The Hindu P ...

Bangalore Venka ...

Our Price: $ 6.16

About the Book

भृगु संहिता फलित ज्योतिष का दुर्लभ ग्रन्थ है। भारतवर्ष में इसकी गिनी चुनी हस्तलिखित प्रतियाँ हैं जो ताड़ पत्रों पर लिखी हुई हैं। जिसके पास हैं, वो दूसरों को देना तो दूर दिखाते तक नहीं। हीरे-मोतियों से भी बढ़कर सुरक्षित रखते हैं। वास्तव में इस दुर्लभ ग्रन्थ का महत्व ही ऐसा है जिनके पास भृगु संहिता है उनके पास नोटों की वर्षा होती है। यह पता लगने पर कि अमुक जगह भृगु संहिता है लोग सैकड़ों मीलों की यात्रा कर पहुँचते हैं और अपने भूत, भविष्य, वर्तमान जीवन पर पड़ने वाले ग्रहों के प्रभाव पता लगाते हैं इसलिए इस दुर्लभ ग्रन्थ को हमने बड़े प्रयत्न से ज्योतिष बन्धुओं की सुविधा के लिए प्रकाशित किया है। इसमें 1932 कुण्डलियां हैं। इस महान ग्रन्थ की सहायता से साधारण से साधारण पढ़ा लिखा व्यक्ति कुण्डली देखकर भविष्य का फल बता सकता है।

Book Reviews by Users
Book Reviews of भृगु संहिता फलित प्रकाश
Have you read this book?
Be the first to rate it

 
Write a Review