The Mega Online Bookstore
Welcome Guest | Login | Home | Contact Us

गैस चैंबर के लिए कृपया इस तरफ... नाजी यातना-शिविर की कहानियां

by  ,
गैस चैंबर के लिए कृपया इस तरफ... नाजी यातना-शिविर की कहानियां,8187524766,9788187524762

Hardback

Not Available




We have 3 million other books

Find Another Book

Enquire about this book

Book Information

Publisher:Samvad Prakashan
Published In:2006
ISBN-10:8187524766
ISBN-13:9788187524762
Binding Type:Hardback
Pages:128 Pages

The Title "गैस चैंबर के लिए कृपया इस तरफ... नाजी यातना-शिविर की कहानियां" is written by तादयुश बोरोवस्की. This book was published in the year 2006. The ISBN number 8187524766|9788187524762 is assigned to the Hardback version of this title. This book also comes in Paperback . This book has total of pp. 128 (Pages). The publisher of this title is Samvad Prakashan. गैस चैंबर के लिए कृपया इस तरफ... नाजी यातना-शिविर की कहानियां is currently Not Available with us.You can enquire about this book and we will let you know the availability.

Related Books

आधुनिक कहानियाँ 4th Edition,8171242251,9788171242252

आधुनिक कहानियाँ 4th Editi ...

सुरेन्द्र प्रता ...

Our Price: $ 6.20

सोया हुआ शहर,8121612918,9788121612913

सोया हुआ शहर

आचार्य चतुरसेन

Our Price: $ 6.90

41 अनमोल कहानियाँ,8186265422,9788186265420

41 अनमोल कहानियाँ

रवीन्द्रनाथ टैग ...

Our Price: $ 9.32

31 अनमोल कहानियाँ,8186265335,9788186265335

31 अनमोल कहानियाँ

शरत्चन्द्र

Our Price: $ 9.32

पाँचवाँ स्तम्भ,8188093882,9788188093885

पाँचवाँ स्तम्भ

हनुमान सिंह गुर ...

Our Price: $ 7.71

बंटवारा,8188093262,9788188093267

बंटवारा

हनुमान सिंह गुर ...

Our Price: $ 6.99

About the Book

हिटलर के नाजीवाद ने कई छह दशक पूर्व यूरोप को मानवता की वधशाला में तब्दील कर दिया था। समूची मानवता के लिए इतना गहरा संकट कभी नहीं पैदा हुआ था। गैस चैंबरों में लाखों की संख्या में स्त्री-पुरुष, बूढ़े-बच्चे झोंक दिए गए थे। यह पुस्तक नाजियों के यंत्रणा-शिविरों की कहानी कहती है। पर यह कहानी सिर्फ यंत्रणा की कहानी नहीं है। यह भविष्य में आस्था और जीवन के गहन आंतरिक सौंदर्य की कहानी भी है ऐसी आस्था और सौंदर्य जो चरम यातना के क्षणों में भी मरती नहीं अपितु एक अद्भुत दीप्ति से चमक उठती है। लेखक के इन कथा-संस्मरणों में एक गहरी भावमय उदासी है। मानवता के सामूहिक भय हैं और एक संकल्प की डोर कि कोई भविष्य अभी कहीं है लोग है, जिनकी विश्वास भरी आंखें कहीं हमें देख रही हैं।